mithali raj biography

Mithali Raj Biography in Hindi

मिताली राज की जीवनी (Mithali Raj Biography (Jivani) In Hindi) : भारत में क्रिकेट को सिर्फ पुरुषों का खेल माना जाता है। लेकिन भारतीय महिला टीम की पूर्व और सफल कप्तान रह चुकी मिताली राज ने भारत के सभी लोगो के इस दृष्टिकोण को पूरी तरह से बदल के रख दिया है। मिताली राज का मानना है कि “महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। उसके लिए अच्छे स्पांसर को आगे आना चाहिए।” मिताली राज ऑस्ट्रेलिया टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज माइकल क्लार्क और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर को अपना आइडल मानती है। मिताली राज की शानदार बल्लेबाजी की वजह से उनको लेडी सचिन भी कहा जाता है।

मिताली राज की जीवनी (Mithali Raj Biography in Hindi)

नाममिताली दोराई राज (लेडी सचिन)
पहचान भारतीय महिला क्रिकेटर
जन्मतिथि 3 दिसंबर 1982
जन्मस्थान जोधपुर, राजस्थान, भारत
पिता दोराई राज (भारतीय वायु सेना)
मातालीला राज (भूतपूर्व क्रिकेटर)
birthday mithali raj image
Bithali Raj Image

3 दिसम्बर 1982 को राजस्थान के जोधपुर मै एक तामिल परिवार मै मिताली राज का जन्म हुआ था। मिताली राज के माता-पिता हैदराबाद के निवासी थे। लेकिन मिताली राज के पिता दोराई राज भारतीय वायु सेना में थे जिसकी वजह से वो जोधपुर में रहते थे। मिताली राज की माता लीला राज भूतपूर्व भारतीय क्रिकेटर थी। मिताली राज ने बचपन से ही क्लासिकल डांस सीखना शुरू किया और मात्र 10 साल की उम्र मै वो भरतनाट्यम मै एक्सपर्ट हो गई और भरतनाट्यम को अपना करियर बनाने के बारे में सोचने लगी ।

लेकिन मिताली राज बचपन में काफी आलसी थी जिसकी वजह से उनके पिता दोराई राज ने उन्हें क्रिकेट की ट्रेनिंग देनी शुरुवात कर दी। जैसे जैसे मिताली राज बड़ी होती गई उनका क्रिकेट और डांस पर एक साथ ध्यान देना बहुत ही मुश्किल होता चला गया। जिसकी वजह से मिताली राज ने डांस और क्रिकेट में से एक विकल्प चुनने का फैसला लिया और क्रिकेट में अपना करियर बनाने का निर्णय लिया।

ये भी पढ़े :-   Dhirubhai Ambani Biography, Motivational Quotes and Success Story in hindi

क्रिकेट करियर (cricket career)

birthday mithali raj quotes
Mithali Raj Quotes

मिताली राज ने अपने क्रिकेट के कोच संपत कुमार के साथ क्रिकेट में करियर बनाने के लिए कड़ी मेहनत शुरू कर दी। मिताली राज को क्रिकेट के अभ्यास के लिए दिल्ली जाना पड़ता था। मिताली राज के माता-पिता उन्होंने हर फैसले में उनके साथ थे। और उनको हर वक्त प्रोत्साहित करते थे। जिसकी वजह से मिताली राज की योग्यता और प्रतिभा तेजी से उभरकर सामने आने लगी और मात्र 17 साल की उम्र में भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए कामयाब हो गई।

स्कूल के समय में मिताली राज अक्सर लड़कों के साथ क्रिकेट खेलती थी। क्योंकि उस समय क्रिकेट को लेकर लड़कियों में कोई दिलचस्पी नहीं थी। लेकिन मिताली राज को खेलते हुए देख कई लड़कियों की विचार धारा बदलने लगी। साल 1997 में हुए विमेंस वर्ल्ड कप में उनका सिलेक्ट लगभग तय माना जा रहा था। क्योकि उस समय मिताली राज लगातार बेहतरीन प्रदर्शन दे रही थी।

ये भी पढ़े :-  संदीप माहेश्वरी की सक्सेस स्टोरी और संदीप माहेश्वरी के मोटिवेशनल कोट्स

लेकिन उनकी उम्र 14 साल होने के कारण उनको टीम में जगह नहीं मिल पाई। लेकिन मिताली राज का खेल दिन पर दिन निखरता गया और उन्होंने साल 1999 में आयरलैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने का मौका मिल गया। मिताली राज ने अपने पहले अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच में रेशमा गाँधी के साथ 258 रन की नाबाद साझेदारी की। इस मैच में मिताली राज 114 रन की नाबाद पारी खेली थी। और क्रिकेट जगत में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गई थी।

mithali raj birthday quotes
Mithali Raj Quotes in Hindi

लेकिन इस पारी के बाद मिताली राज लगातार फ्लॉप होती चली गई। जिसकी वजह से उनको 2001 में एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला। लेकिन इस के बाद मिताली राज ने 1 साल के अंदर अपनी सारी गलती सुधारी और 2002 से भारतीय महिला टीम में वापसी की और 14 जनवरी को इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेला लेकिन इस मैच मिताली राज बिना खाता खोले आउट हो गई।

इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में अच्छे प्रदर्शन की वजह से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे और टेस्ट सीरीज के लिए मौका दिया गया। इसके बाद में जब 2002 में ही भारतीय महिला टीम इंग्लैंड के दौरे पर गई तब उन्होंने टेस्ट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ चौथी पारी में 214 रन की पारी खेल पूरी तरह से भारतीय टीम में जगह बना ली।

ये भी पढ़े :-  Ratan Tata Biography and Success Story in hindi

साथ ही लगातार अच्छे प्रदर्शन की वजह से मिताली राज ने विमेंस वर्ल्ड कप 2005 में भारतीय टीम में न सिर्फ जगह नहीं बनाई बल्कि उनकी भारतीय महिला टीम की कप्तानी भी सोपी गई। तो वही मिताली राज ने अपनी कप्तानी के अंदर भारतीय महिला टीम को विमेंस वर्ल्ड कप 2005 के फाइनल में भी पहुंचाया। लेकिन फाइनल मैच में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा। लेकिन फाइनल तक पहुंचना भी एक बड़ी सफलता थी ।

2005 के बाद मिताली राज ने अपनी कप्तानी के अंदर भारतीय महिला टीम को विमेंस वर्ल्ड कप 2017 के फाइनल फाइनल में भी पहुंचाया। और बतौर भारतीय कप्तान महिला हो या पुरुष वर्ल्ड कप के फाइनल में सबसे ज्यादा बार पहुंचने वाली खिलाड़ी बन गई। जिसके बाद मिलती राज 1 फरवरी 2019 को सबसे ज्यादा 200 वनडे मैच खेलने वाली पहली महिला क्रिकेटर बनीं। तो वही विश्व कप में 1000 से ज्यादा रन बनाने वाली पहली भारतीय और दुनिया के 5वीं महिला क्रिकेटर है।

वनडे करियर (ODI career)

mithali raj birthday
mithali Raj

मिताली राज ने वनडे करियर में अब तक 209 मैच खेले और 50.64 की औसत से सबसे ज्यादा 6888 रन बनाये है। मिताली राज ने वनडे क्रिकेट में 7 शतक और 53 अर्धशतक भी लगाए है। मिताली राज वनडे में सबसे ज्यादा रन बनाने के साथ सबसे ज्यादा अर्धशतक लगाने वाली महिला बल्लेबाज भी है। मिताली राज ने वनडे क्रिकेट में 125 रन की नाबाद पारी भी खेली है।

टेस्ट करियर (Test Career)

टेस्ट क्रिकेट में मिताली राज ने सिर्फ 10 ही मैच खेले है लेकिन इन 10 मैचों में उन्होंने 51.00 की औसत से 663 रन बनाये है। तो वही 1 शतक और 4 अर्धशतक भी लगाए है। मितली राज के नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे बड़ी 214 रन की पारी खेलने का रिकॉर्ड भी है। जो उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ खेली थी।

ये भी पढ़े :-  Nick Vujicic Biography, Motivational Quotes and Success Story in hindi

टी-20 करियर (T-20 Career)

mithali raj status pic
Mithali Raj Status Pic

मितली राज ने 2012, 2014 और 2016 में आईसीसी महिला वर्ल्ड टी-20 में भारत की कप्तानी की थी। तो वही मितली राज अब टी-20 क्रिकेट से सन्यास ले चुकी है। मितली राज ने टी-20 क्रिकेट में 89 मैचों में 37.52 की औसत और 96 से अधिक के स्ट्राइक रेट से 2364 रन बनाये है। मितली राज टी-20 क्रिकेट में सबसे अधिक रन बनाने वाली भारतीय महिला क्रिकेटर है। मितली राज ने टी-20 में 17 अर्धशतक और 97 रन की नाबाद पारी खेली।

मिताली राज को मिले पुरस्कार (Mithali Raj gets the Award)

  • 2003 में मितली राज को उनके शानदार प्रदर्शन की वजह से अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया था।
  • मितली राज को साल 2015 में भारत का चौथा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से भी नवाजा गया था।
  • 2015 में ही विजडन इंडियन क्रिकेटर ऑफ द ईयर का ख़िताब मितली राज ने जीता था।
  • यूथ स्पोर्ट्स आइकन ऑफ एक्सीलेंस अवार्ड 2017 में मितली राज को दिया गया था।
  • वोग स्पोर्ट्सपर्सन ऑफ द ईयर भी 2017 में मितली राज को दिया गया था।
  • साथ ही 2017 में बीबीसी 100 महिला सूची में मितली राज को शामिल किया गया था।

ये भी पढ़े :-  Jack Ma Biography | Jack Ma Success Story | Alibaba.com Success Story